Skip to content

हिंदी में पढ़ें

क्या सरकारी कर्मचारी शेयर बाजार में निवेश कर सकते हैं?

Written by - Karunesh Dev

September 21, 2022 1 minute

भारत में सरकारी नौकरियों की मांग बहुत है क्योंकि उनमें नौकरी की सुरक्षा है और साथ में मिलने वाले भत्ते और बाकी लाभ भी हैं। हालांकि, बहुत से सरकारी कर्मचारियों को बढ़िया सैलरी नहीं मिलती है और इसलिए वे इन्वेस्टमेंट के माध्यम से आय के अन्य तरीकों की तलाश में हो सकते हैं। ऐसा ही एक तरीका है शेयर बाज़ार जिसमें कई सरकारी कर्मचारी अक्सर निवेश करते हैं।

लेकिन यहां यह सवाल उठता है कि क्या सरकारी कर्मचारी बाकी लोगों की तरह शेयर बाज़ारों में निवेश कर सकते हैं?  क्या उन पर कोई सीमा या प्रतिबंध हैं? 

आईये यहां समझते हैं :

सरकारी कर्मचारियों के लिए किस तरह के शेयर बाज़ार निवेश की अनुमति है?

सेंट्रल सिविल सर्विस (कंडक्ट) नियम, 1964 के 35 (1) के अनुसार, सरकारी कर्मचारी स्टॉक्स में ट्रेडिंग या किसी अन्य तरह के सट्टा व्यापार में शामिल नहीं हो सकते हैं – हालांकि, सरकारी कर्मचारी स्टॉक ब्रोकर्स, रजिस्टर्ड एजेंसी, लाइसेंस या सर्टिफिकेट होल्डर व्यक्ति / एजेंसी के माध्यम से शेयर बाज़ार में समय समय पर निवेश कर सकते हैं।

नियम 35 (1)  को और आसानी से समझते हैं  – अगर आप सरकारी कर्मचारी हैं, तो आप शेयर्स या सिक्योरिटीज़ (या कोई अन्य निवेश) की लगातार खरीद या बिक्री नहीं कर सकते, क्योंकि इसे सट्टा व्यापार (speculative trading) समझा जाएगा।

सरकारी कर्मचारी को कहां निवेश करने से बचना चाहिए?

सेंट्रल सिविल सर्विस (कंडक्ट) नियम, 1964 के रूल नं 40  (2) का पार्ट (i) कहता है –

सरकारी कर्मचारी ऐसा कोई निवेश नहीं कर सकते हैं जिसके चलते उन्हें शर्मिंदगी हो सकती है या नतीजतन उन्हें नौकरी से हटाया जा सकता है। यही नियम कर्मचारी के परिवार के सदस्यों और उसकी ओर से काम करने वाले किसी भी अन्य व्यक्ति पर भी लागू होते हैं।

किस प्रकार के निवेश से सरकारी कर्मचारियों को शर्मिंदगी उठानी पड़ सकती है?

ऐसे कोटे से खरीदे गए शेयर जो खासतौर से इनके लिए आरक्षित हैं :

1. कंपनियों के डायरेक्टर्स  या

2. उनके दोस्त और सहयोगी

को ऐसा निवेश माना जाता है जिसके चलते सरकारी कर्मचारी के लिए शर्मिंदगी हो सकती है।

सेंट्रल सिविल सर्विस (कंडक्ट) नियम, 1964 के रूल नं 40 (2) का भाग (ii) कहता है –

ऐसे सरकारी कर्मचारी जो किसी :

1.  आईपीओ (इनिशियल पब्लिक ऑफर)  के, या  

2.  सेंट्रल पब्लिक सेक्टर कंपनी से संबंधित एफपीओ (फॉलो – ऑन पब्लिक ऑफर) के 

प्राइस फिक्सेशन की या उस से सम्बंधित प्रोसेस में शामिल हैं, वे शेयर अलॉटमेंट के लिए ना तो अपने आप और ना ही अपने परिवार के किसी सदस्य के माध्यम से या उसकी ओर से काम करने वाले किसी भी व्यक्ति के माध्यम से, शेयर अलॉटमेंट के लिए अप्लाई नहीं कर सकता है।

नियम 40 (2) को और आसानी से समझते हैं – एक सरकारी कर्मचारी को ऐसे किसी आईपीओ या एफपीओ में निवेश नहीं करना चाहिए, जहां वह शेयर प्राइस फिक्स करने की प्रोसेस में किसी भी प्रकार शामिल है। 

उसे कंपनियों के डायरेक्टर्स के लिए आरक्षित कोटे के माध्यम से शेयरों में निवेश करने से भी बचना चाहिए।

सरकारी कर्मचारियों के लिए शेयर बाज़ार में निवेश के डिस्क्लोज़र रूल्स क्या हैं?

केंद्र सरकार ने 2019 में सरकारी कर्मचारियों द्वारा किए गए स्टॉक निवेश और म्यूचुअल फंड निवेश के डिस्क्लोज़र की सीमा बढ़ा दी है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय (HRD Ministry) द्वारा जारी एक आदेश के अनुसार रिवाइज्ड लिमिट अब कर्मचारी के छह महीने की बेसिक सैलरी के बराबर है।

पहले के रूल्स के हिसाब से :

1. ग्रुप ‘ए’ और ‘बी’ के ऑफिसर्स को ऐसे शेयर्स, सिक्योरिटीज़, डिबेंचर या म्यूचुअल फंड्स आदि में लेनदेन के डिटेल्स का डिस्क्लोज़र करना होता था, जो हर वित्तीय वर्ष में 50,000 रु से ज़्यादा था।

2. ग्रुप ‘सी’ और ‘डी’ के ऑफिसर्स को 25,000 रु से अधिक के लेनदेन का डिस्क्लोज़र करना होता था।

आसान शब्दों में –

सरकारी आर्डर के हिसाब से अगर एक वित्तीय वर्ष में कर्मचारी की इंवेस्टमेंट्स उसके छह महीने की बेसिक सैलरी से ज़्यादा हैं तो उसे ऐसे शेयर्स, सिक्योरिटीज़, डिबेंचर्स और म्यूचुअल फंड स्कीम्स में किया गया कुल निवेश और उसका पूरा हिसाब देना होगा।

सरकारी कर्मचारियों के लिए निवेश के सबसे अच्छे विकल्प कौन से हैं?

सरकारी कर्मचारी व्यक्तिगत वित्तीय लक्ष्यों के आधार पर यहां दिए गए कुछ (या सभी) निवेश विकल्पों में निवेश कर सकते हैं :

1. म्युचुअल फंड स्कीम्स 

2. पब्लिक प्रॉविडेंट फंड 

3. राष्ट्रीय पेंशन योजना

4. शेयर्स में लंबी अवधि का निवेश

5. बैंक डिपॉजिट्स 

लंबी अवधि के स्टॉक निवेश के लिए सरकारी कर्मचारी ऊपर बताए गए नियमों को पढ़ सकते हैं कि शेयर बाज़ार के अंतर्गत कौन से निवेश में अनुमति है और किसमें नहीं। 

किसी भी निवेशक को अपना एक निवेश पोर्टफोलियो तैयार करना चाहिए जो वित्तीय लक्ष्यों के हिसाब से उसके रिटर्न की दर और जोख़िम क्षमता को भी ध्यान में रखता है। 

सरकारी कर्मचारी और निवेश 

सरकारी कर्मचारी शेयर बाज़ारों में सावधानी पूर्वक निवेश करने पर विचार कर सकते हैं। 

सेंट्रल सिविल सर्विस (कंडक्ट) रूल्स, 1964 के हिसाब से, वे शेयर बाज़ार में निवेश के माध्यम से पोर्टफोलियो डायवर्सिफिकेशन का अधिकतम लाभ उठा सकते हैं।

उसी के साथ, जैसा कि हमने ऊपर देखा है, ऐसे अन्य निवेश विकल्प हैं जो सरकारी कर्मचारी बचत और अच्छा कार्पस बनाने के लिए तलाश सकते हैं।

FAQs

क्या कोई सरकारी कर्मचारी आईपीओ में निवेश कर सकता है?

हां – सरकारी कर्मचारी आईपीओ में निवेश कर सकते हैं, बशर्ते वे ऐसे आईपीओ में शेयर प्राइस फिक्सेशन या इसके फॉलो – ऑन ऑफर प्रोसेस का हिस्सा न हों।

एक सरकारी कर्मचारी को अपने निवेश की योजना कैसे बनानी चाहिए?

एक सरकारी कर्मचारी अपनी आज की इनकम और रैंक के हिसाब से इन्वेस्टमेंट प्लान बना सकता है जिससे उनकी आय को बढ़ाया जा सके। वे ऐसे विकल्पों में निवेश कर सकते हैं जो रिटायरमेंट के दौरान अतिरिक्त आय और लिक्विडिटी प्रदान करते हैं।

क्या सरकारी कर्मचारियों को स्टॉक निवेश से होने वाली कमाई पर टैक्स देना पड़ता है?

जी हां – सरकारी कर्मचारियों को भी बाकी लोगों की तरह, शेयर बाज़ार में निवेश से अर्जित आय पर टैक्स देना अनिवार्य है – इसमें किसी प्रकार की छूट नहीं है।

सरकारी कर्मचारियों के लिए शेयर बाज़ार में निवेश पर प्रतिबंध क्यों हैं?

क्यों हैं?
यहां ये समझना जरुरी है कि क्योंकि सरकार देश के लोगों से टैक्स के तौर पर पैसा लेती है, और सरकारी कर्मचारी, जो सरकार के लिए काम करते हैं, वे इस पैसे का उपयोग और अलॉटमेंट देखते हैं और उसके लिए जवाबदेह भी होते हैं। 
इसके अलावा, शेयर बाज़ारों में सट्टा व्यापार भी शामिल है जो सरकार / सरकारी एजेंसियों द्वारा अपनाई गई एथिक्स और नैतिकता के खिलाफ काम कर सकता है। इसलिए सरकारी कर्मचारियों के लिए शेयर बाज़ार में निवेश पर कुछ रोक है।

क्या कोई सरकारी कर्मचारी किसी कंपनी में डायरेक्टर या पार्टनर बन सकता है?

एक सरकारी कर्मचारी किसी प्राइवेट कंपनी का डायरेक्टर हो सकता है, हालांकि उसे कंपनी की नियमित गतिविधियों में शामिल होने की अनुमति नहीं है। इसलिए वह कंपनी का नॉन – एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर या ‘स्लीपिंग पार्टनर’ बनना चुन सकता है।

Related Articles

Download one of India's best wealth management apps

Join more than one million investors and take control of your wealth

Download app